पीएम किसान से लेकर आयुष्मान भारत तक, बजट में हो सकते हैं इससे जुड़े कई बड़े ऐलान

 पीएम किसान से लेकर आयुष्मान भारत तक, बजट में हो सकते हैं इससे जुड़े कई बड़े ऐलान



आयुष्मान भारत की राशि को दोगुना तक बढ़ाने के पीछे तर्क है कि लाभार्थी को कैंसर और ट्रांसप्लांट जैसी सुविधा का भी लाभ मिल सके. इसी तरह सरकार महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना यानी कि मनरेगा के बजट को 47 परसेंट तक बढ़ा सकती है.

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को अपना छठा बजट पेश करने वाली हैं. चूंकि यह आम चुनाव का साल है, इसलिए सीतारमण अंतरिम बजट की घोषणा करेंगी. लोकसभा चुनाव 2024 समाप्त होते ही नई कैबिनेट में आम बजट की घोषणा की जाएगी. सीतारमण ने पहले ही बोल दिया है कि इस बार का बजट बहुत बड़ा होने वाला नहीं है. हालांकि कई मीडिया रिपोर्ट्स में इस बात का हवाला दिया गया है कि केंद्र की कई स्कीम में बदलाव देखे जा सकते हैं. इसमें वे भी स्कीमें होंगी जो खेती-किसानी से जुड़ी हैं.


आयुष्मान भारत स्कीम 

सबसे पहले बात आयुष्मान भारत स्कीम की जिसमें लोगों को 5 लाख रुपये तक के फ्री इलाज की सुविधा दी जाती है. सूत्रों से ऐसी रिपोर्ट है कि केंद्र सरकार आयुष्मान भारत स्कीम के अंतर्गत हेल्थ कवर को दोगुना तक बढ़ा सकती है. प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में चलने वाली आयुष्मान भारत स्कीम में 5 लाख की इलाज सुविधा दी जाती है जिसे बढ़ाकर 10 लाख किया जा सकता है. इसकी जानकारी समाचार एजेंसी पीटीआई ने दी है. एक फरवरी को आने वाले अंतरिम बजट में सरकार इसका ऐलान कर सकती है.

आयुष्मान भारत की राशि को दोगुना तक बढ़ाने के पीछे तर्क है कि लाभार्थी को कैंसर और ट्रांसप्लांट जैसी सुविधा का भी लाभ मिल सके. इसी तरह सरकार महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना यानी कि मनरेगा के बजट को 47 परसेंट तक बढ़ा सकती है. 'इकोनॉमिक टाइम्स' की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार मौजूदा 60,000 करोड़ के बजट को बढ़ाकर 88,000 करोड़ रुपये कर सकती है. ऐसा इसलिए क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा के तहत काम की बहुत मांग देखी जा रही है.



पीएम किसान स्कीम 

वित्त वर्ष 2023 में केंद्र ने इस योजना पर करीब 90,000 करोड़ रुपये खर्च किए थे. वित्त वर्ष 2025 के लिए ग्रामीण विकास मंत्रालय ने केंद्र से बजट पूर्व परामर्श में योजना के लिए 1.1 खरब रुपये आवंटित करने को कहा था. 

की एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM-KISAN) योजना के तहत प्रति किसान आवंटन 2,000 रुपये प्रति वर्ष बढ़ाकर 6,000 रुपये से 8,000 रुपये किया जा सकता है. हालांकि, अभी तक कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है. इसमें कहा गया है कि केंद्र को फरवरी और मार्च के बीच पीएम-किसान योजना की 16वीं किस्त जारी करने की उम्मीद है. 15वीं किस्त पिछले साल नवंबर में जारी की गई थी.

Reactions

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ