PM Kisan Yojana की 15वीं किस्त नहीं आई ये हो सकते हैं कारण, कैसे करें पता

 

PM Kisan Yojana की 15वीं किस्त नहीं आई ये हो सकते हैं कारण, कैसे करें पता

सरकार द्वारा शुरू की गई पीएम किसान योजना की 15वीं किस्त 15 नवंबर 2023 को देश के करोड़ो किसानों के अकाउंट में आ गई थी। लेकिन देश के कई किसान अभी भी किस्त की राशि का इंतजार कर रहे हैं। ऐसे में आपको जरूर जान लेना चाहिए कि आपके अकाउंट में आखिर किस वजह से किस्त की राशि नहीं आई है और आपका कहां संपर्क करना चाहिए।

की 15वीं किस्त की राशि आ गई थी। यह राशि केंद्र सरकार द्वारा डीबीटी माध्यम से भेजी गई। ऐसे में कई किसानों के अकाउंट में अभी तक इस राशि का इंतजार कर रहे हैं। कई किसानों का नाम लाभार्थी लिस्ट में था परंतु फिर भी उनको किस्त का राशि नहीं मिली है।


आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने किसानों को आर्थिक सहायता देने के लिए पीएम किसान सम्मान निधि योजना शुरू किया था। इस स्कीम में किसानों के अकाउंट में सालाना 6,000 रुपये आते हैं। यह राशि 3 किस्त में मिलती है। अभी तक सरकार ने इस योजनी की 15वीं किस्त जारी कर दी है। यह राशि किसानों के अकाउंट में डायरेक्ट जमा होती है। इस स्कीम का लाभ देश के उन किसानों को मिलता है जो पात्रता के योग्य होते हैं।

कई किसानों के अकाउंट में अभी तक 15वीं किस्त नहीं आई है। इस किस्त के ना आने की वजह बहुत सी है। इसमें से मुख्य है कि सरकार ने फर्जीवाड़ा को रोकने के लिए भी कई किसानों को इस स्कीम से बाहर कर दिया है।

इस वजह से अकाउंट में नहीं आई 15वीं किस्त

कई किसानों ने अपने बैंक अकाउंट को आधार कार्ड से लिंक नहीं किया है। इसके अलावा सरकार ने पीएम किसान योजना का लाभ पाने के लिए ई-केवाईसी और जमीन सत्यापन अनिवार्य कर दिया था। कई किसानों ने ई-केवाईसी और जमीन का सत्यापन नहीं किया है इस वजह से उनकी किस्त अटक गई है।

अगर आपने ई-केवाईसी और जमीन का सत्यापन किया है फिर भी आपके अकाउंट में 15वीं किस्त नहीं आई है तो आप शिकायत दर्ज कर सकते हैं। इसके बाद आपको आपकी किस्त मिल सकती है। हो सकता है आपको यह किस्त अगली किस्त के साथ आ जाए। अगर आपने योजना के लिए रजिस्ट्रेशन किया है तो आपको एक बार अपना स्टेटस जरूर चेक करना चाहिए। हो सकता है कि जेंडर,नाम, आधार नंबर जैसे बाकी कोई जानकारी गलत दर्ज हो गई हो, इस वजह से भी आप योजना का लाभ पाने के लिए वंचित रह सकते हैं।


Reactions

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ