Land Seeding वाले किसानो को वापस ले ली जाएगी पीएम किसान योजना की राशि

 

Land Seeding वाले किसानो को वापस ले ली जाएगी पीएम किसान योजना की राशि




ये है बड़ी वजह
 

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत किसानों के खाते में सालाना 6 हजार रुपये भेजे जाते हैं.

किसानों को ये राशि हर 4 महीने के अंतराल पर तीन किस्तों में दो-दो हजार रुपये करके ट्रांसफर की जाती है.

किसानों को 12वीं किस्त अक्टूबर के महीने में ही ट्रांसफर की गई है.

 

भूलेखों के सत्यापन के चलते इस बार पीएम किसान के लाभार्थियों की संख्या में भारी कमी आई है.

पिछली किस्त के मुकाबले इस साल 2 करोड़ कम किसानों को इस योजना की राशि भेजी गई.

11वीं किस्त में 10 करोड़ से ज्यादा किसानों को ये राशि दी गई थी.

वहीं, 12वीं किस्त में 8 करोड़ किसान इस योजना का लाभ उठा पाए हैं.

 

किस्तें वापस करने को कहा गया है
बता दें कि अयोग्य किसानों से अब तक ली गई सभी किस्तों की राशि वापस ली जा रही है.

यह प्रकिया लंबे समय से जारी है. कई लोगों से इस राशि को वसूला जा चुका है.

कई लोग बाद में इस योजना के लिए अयोग्य पाए जा रहे हैं.

उन्हें अब नोटिस भेजकर अबतक की भेजी गईं सभी किस्तें वापस करने को कहा गया है.

 

यहाँ करें संपर्क
पीएम किसान योजना से जुड़ी किसी भी जानकारी के लिए किसान आधिकारिक ईमेल आईडी pmkisan-ict@go

v.in पर संपर्क कर सकते हैं.

पीएम किसान योजना के हेल्पलाइन नंबर- 155261 या 1800115526 (Toll Free) या फिर 011-23381092 पर भी संपर्क कर सकते हैं.

 

लिस्ट में से चेक करें अपना नाम
पीएम किसान योजना की आधिकारिक वेबसाइट pmkisan.gov.in पर जाएं.
अब होम पेज पर राइट साइड में ‘Farmers Corner’ सेक्शन पर क्लिक करें.
फार्मर्स कॉर्नर सेक्शन में ‘Beneficiary Status’ विकल्प पर क्लिक करें.
अब पीएम किसान खाता संख्या या रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर में से किसी एक विकल्प को चुनें.
डिटेल भरने के बाद ‘Get Data’ पर क्लिक करें.
अब आपको स्क्रीन पर अपना स्टेटस दिखाई दे जाएगा.
 

ट्रांसफर की जा सकती है
बता दें कि 12वीं किस्त तकरीबन 8 करोड़ किसानों को भेजी गई है.

कई किसान भूलेखों के सत्यापन या ई-केवाईसी नहीं होने की वजह से इस सुविधा से वंचित रह गए हैं.

हालांकि, अगर ये किसान जल्द से जल्द इन प्रकियाओं को पूरा करते हैं तो अगली किस्त में ये राशि किसानों के खाते में ट्रांसफर की जा सकती है.
Reactions

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ